अथर्ववेद Atharva Veda

Ved Puran, All Purans, Purans In hindi, puran in sanskrit, all veds, religious books, free PDF books, online pdf books, download free pdf books, Indian religious books, India books, religious books, hindi books free download, sanskrit book free download, free pdf books download, Agni Puran, Bhagwat Puran, Bhavishya Puran, Brahma Puran, Brahmand Puran,Garuda Puran, Kurma Puran, Ling Puran, Markandya Puran, Matsya Puran,Narad Puran, Padma Puran, Shiv Puran, Skand Puran, BrahmVaivatra Puran, Vaman Puran,Varah Puran, Vishnu Puran, AtharvaVed, RigVed, SamVed, YajurVed, Shrimad Bhagwat Geeta, Vayu Puran, Durga Saptashati, Bhrigu Samhita, Aryabhatiya, Mantra, Hindu Mantra, Stotram

अथर्ववेद/Atharva Veda

अथर्ववेद संहिता हिन्दू धर्म के पवित्रतम वेदों में से चौथे वेद अथर्ववेद की संहिता अर्थात मन्त्र भाग है। इसमें देवताओं की स्तुति के साथ, चिकित्सा, विज्ञान और दर्शन के भी मन्त्र हैं। अथर्ववेद संहिता के बारे में कहा गया है कि जिस राजा के रज्य में अथर्ववेद जानने वाला विद्वान् शान्तिस्थापन के कर्म में निरत रहता है, वह राष्ट्र उपद्रवरहित होकर निरन्तर उन्नति करता जाता हैः

अथर्ववेद के रचियता श्री ऋषि अथर्व हैं और उनके इस वेद को प्रमाणिकता स्वंम महादेव शिव की है, ऋषि अथर्व पिछले जन्म मैं एक असुर हरिन्य थे और उन्होंने प्रलय काल मैं जब ब्रह्मा निद्रा मैं थे तो उनके मुख से वेद निकल रहे थे तो असुर हरिन्य ने ब्रम्ह लोक जाकर वेदपान कर लिया था, यह देखकर देवताओं ने हरिन्य की हत्या करने की सोची| हरिन्य ने डरकर भगवान् महादेव की शरण ली, भगवन महादेव ने उसे अगले अगले जन्म मैं ऋषि अथर्व बनकर एक नए वेद लिखने का वरदान दिया था इसी कारण अथर्ववेद के रचियता श्री ऋषि अथर्व हुए। अनेक विद्वानों का मत है कि अथर्ववेद के रचियता ऋषि अंगिरा हैं।

Author/लेखक: Shree Krishi Atharva/ श्री ऋषि अथर्व

Size of File/साइज़ :  427KB

Number Of Pages/प्रष्ठ संख्या : 122

Language/भाषा: English

Category/श्रेणी : All Books,Download Free Books,Shree Krishi Atharva, श्री ऋषि अथर्व, India, Hindu Religion, History, 4 Ved, Purans

Page Quality/प्रष्ठ गुणवत्ता : Very Good

Atharva Veda Download MS-Word Link